Total Pageviews

Wednesday, November 24, 2010

असीम दया के निधि प्रभु...

संत शिरोमणि श्री 108 श्री विद्यासागर महारज जी
कुछ दिनों पहले सागर (म.प्र.) में चल रहे जैन समाज के एक भव्य किंतु सादगी भरे अध्यात्मिक आयोजन पंचकल्याणक में संत शिरोमणि श्री 108 विद्यासागर महाराज के प्रवचन सुनने का सौभाग्य प्राप्त हुआ. कर्मफल की व्याख्या करते हुये आपने कहा कि किये गये एक सत्कर्म के लिये सौ गुना पुण्य प्राप्त होता है.  

अभी चन्द दिनों पहले रीवा (म.प्र.) में ही, अवतार मेहेर बाबा के सत्संग में डॉ. जी. पी. श्रीवास्तव अंकल का अध्यात्मिक व्याखान सुनने का मौका मिला जो कि बहुत ही रोचक होता है. प्रति माह के अंतिम रविवार को इस सत्संग का आयोजन आपके निवास स्थान पर ही होता है जिसका हम बेसब्री से इंतज़ार करते हैं.
इस अध्यात्मिक व्याख्यान में कुरान शरीफ से उद्धृत  करते हुये आपने बताया कि यदि कोई व्यक्ति दुष्कर्म करे तो उसे 1 गुना पाप का भागी ही होता है जबकि यदि कोई व्यक्ति एक पुण्य कार्य करता है तो उसे सामन्य तौर पर दस गुना पुण्य प्राप्त होता है और विशेष परिस्थितियों में सत्तर गुना तक पुण्य प्राप्त होता है.  
मन में बात आई कि यदि ऐसा वाकई होता है तो ईश्वर की कितनी मेहेर है. किंतु फिर लगा कि संत पुरुष, अच्छा कार्य करने हेतु प्रेरित करने मात्र के लिये ही इस प्रकार की बातें करते हैं.
एक रोज़ खेतों से होते हुये घर जाते समय गेहूँ की बालियोँ की ओर ध्यान गया, मन में विचार आया कि खेत में गेहूँ का एक बीज बोने पर कई सैकड़े गुना दाने हमें मिलते हैं, यह तो प्रकृति का नियम है.!!!   
यानि संत पुरुष सही कहते हैं. सत्कर्म का पुण्य लाभ कई गुना मिलता है क्योंकि यह उस असीम दया के निधि प्रभु की कृपा है, आईये इसे अनुभव करें और दैवीय आनन्द से अपने जीवन को ओतप्रोत कर दें.
अवतार मेहेर बाबा की जय !!!    

8 comments:

  1. वाकई, ऐसे विकट समय में, जहाँ दुष्‍कर्म के लिए प्रलोभन प्रबल हैं, और सत्‍कर्म के कारण लोग संकट में भी पड़ते दिखाई देते हैं, महाराज का यह कथन सत्‍य प्रतीत होता है "यदि कोई व्यक्ति दुष्कर्म करे तो उसे 1 गुना पाप का भागी ही होता है जबकि यदि कोई व्यक्ति एक पुण्य कार्य करता है तो उसे सामन्य तौर पर दस गुना पुण्य प्राप्त होता है और विशेष परिस्थितियों में सत्तर गुना तक पुण्य प्राप्त होता है."

    यह भी कह सकते हैं कि जनकल्‍याण चाहे न करें, यदि अपना जीवन-यापन बिना भ्रष्‍ट हुए कर सकें तो यही बहुत बड़ा पुण्‍य का काम होगा।

    मेरा भी एक बार जैन सम्‍मेलन में जाना हुआ था। वहाँ महात्‍मा जी ने उपवास का अर्थ समझाया था। उपवास का अर्थ मात्र किसी विशेष दिन निराहार रहना नहीं है, बल्कि वह दिन पूजा पाठ, सत्‍संग में व्‍यतीत करना है। जब आप दिन भर भजन सत्‍संग करेंगे, तो उस दिन कमाई नहीं हो पाएगी। और जब कमाएंगे नहीं, तो खाने का प्रश्‍न ही नहीं उठता, इसलिए आपको निराहार रहना है। व्रत के दिन पूजा पाठ, भजन कीर्तन, सत्‍संग प्रमुख है, निराहार रहना गौण है। यदि हम मात्र निराहार रहते हैं, सत्‍संग आदि नहीं करते तो उपवास का मकसद पूरा नहीं होता।

    उपवास की यह व्‍याख्‍या तब से मेरे मन में अंकित हो गई है।

    - आनंद

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया सर... बहुत दिन से आपसे कुछ सुना नहीं...

      Delete
  2. chander ji,
    आप की सहायता करका मुझे बहुत खुशी होगी ... अपने ब्लॉग में फोटो डालने के लिए आप इस वेबसाइट से एक अच्छी सी थीम डाऊनलोड करे और वो फोटो दो आपको डालना है उसे मुझे मेल करे .... में आपके लिए उस फोटो को ठेमे में डाल कर आपको पुनः मेल कर दूँगा

    वेबसाइट :

    http://btemplates.com/

    ReplyDelete
  3. आदरणीय सर
    आपने कितनी सुन्दर बात कही है...यदि आज के दौर में बिना भ्रष्ठ हुये अपना और अपने परिवार का जीवन यापन कर पायें तो यह बहुत बड़ी बात होगी...
    ब्लॉग पर पधारने के लिये बहुत बहुत धन्यवाद
    प्रिय बिग बॉस जी साईट भेजने के लिये बहुत बहुत धन्यवाद. हम कोशिश कर के आपको कुछ पसन्दीदा फोटो भेजते हैं...
    सादर
    चन्दर मेहेर

    ReplyDelete
  4. सर आप मेरे ब्लाग पर आये अपने विचार भी आपने प्रकट किये । पढकर अच्छा लगा । लेकिन आपकी कोई नई पोस्ट देखने में नहीं आ रही है. कृपया प्रस्तुत करें.
    मेरी नई पोस्ट "भ्रष्टाचार पर सशक्त प्रहार" पर आपके सार्थक विचारों की प्रतिक्षा रहेगी.
    www.najariya.blogspot.com नजरिया

    ReplyDelete
    Replies
    1. सुशील जी आपका सवागत है ब्लॉग पर नये पोस्ट के लिये...

      Delete
  5. MEHER PRAKASH UPADHYAYJanuary 21, 2011 at 11:28 PM

    JAY MEHER BABA, MY SELF MEHER PRAKASH UPADHYAY AAPKI KITNI TARIF KARU SAMAJH ME NAHI AATA BEHTARIN KAM KIA HAI AAPNE.

    ReplyDelete
    Replies
    1. जय बाबा, मेहेर प्रकाश जी, आप कैसे हैं. आपको लाईफ मज़ेदार पर पढ़ कर बहुत अच्छा लगा. आप कहाँ रहते हैं आपके जीवन में बाबा कृपा कैसे हुई हम जानने को उत्सुक हैं कृपया ज़रूर बताईये. दीपावली आप सभी को बहुत बहुत मुबारक हो. एक बार फिर आप सभी को जय बाबा.
      सादर
      आपका ही
      चन्दर

      Delete

Your welcome on this post...
Jai Baba to You
Yours Sincerely
Chandar Meher

Related Posts with Thumbnails